जाने सांता क्लॉज़ का रहस्य, क्या Santa Claus सही में आते हैं ? Santa Claus Real Story

0
2055

Santa Claus Real or Fake:

कहते हैं क्रिसमस के दिन जब प्रभु येशु मसीह का जन्म हुआ था, उस क्रिसमस की रात को  सांता क्लॉज़ नाम के एक आदमी आते हैं और बच्चों को उपहार देकर जाते हैं| पुरे विश्व में क्रिसमस की रात को बहुत से लोग अपने मोज़े बालकनी में टंगा कर रखते हैं, कहते हैं की सांता क्लॉज़ रात में चोरी-छुपे आकर उस मोज़े में उपहार डाल कर चले जाते हैं| लेकिन बहुत से लोग इस पर विश्वास नहीं करते, तो क्या है यह एक परंपरा है या फिर सचमुच सांता क्लॉज़ आकर उपहार डाल कर चले जाते हैं| इस रहस्य से आज पर्दा उठेगा और यह मान लीजिए की इस रहस्य को जानने के बाद आपके सोचने का नजरिया बदल जाएगा और आप में परिवर्तन भी आएगा| अगले पेज में जाने सांता क्लॉज़ का रहस्य|

अगले पेज में जाने के लिए नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें|

 

सांता क्लॉज़: Santa Claus In Hindi

चौथी सदी की बात है, मायरा नाम के शहर में जो अब टर्की नाम से जाना जाता है| इस शहर में बहुत ही धनवान एक परिवार रहता था| एक दिन किसी कारण वश उस परिवार के सभी लोगों की दुर्घटना में मौत हो गई| सिर्फ एक बच्चा बच गया जिसका नाम था Nicholas. उस बच्चे का इस दुनिया में कोई नहीं बचा था, उसके माता पिता ने उसके लिए बहुत सारा पैसा और संपत्ति छोड़ गए थे| वह एक धनवान बच्चा था|

उसी शहर में एक परिवार रहता था, वह बहुत गरीब परिवार था| इतना गरीब की खाने पीने को भी कुछ नहीं था| उस परिवार में 3 बहनें और उनके पिता थे| गिरबी और कर्जे के कारण पिता के न चाहते हुए भी उसको अपनी बेटियों को बेचने के लिए राज़ी होना पड़ा| सभी बहनें बहुत दुखी हुईं| सबसे पहले बड़ी बहन को बेचा जाना था, तीनो बहने और पिता एक रात पहले बहुत रोए| यह साथ में उनकी आखरी रात थी| यह खबर पुरे शहर में फ़ैल चुकी थी|

उस रात बड़ी बहन ने अपने मोज़े धो कर आग के ऊपर टांग दीए, जिससे वो सुबह तक सूख जाएं| अगले पेज में जाने क्या हुआ अगली सुबह|

अगले पेज में जाने के लिए नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें|

 

अंजान चेहरा: Who Is Santa Claus Really

अगली सुबह जब बड़ी बहन उठी तो उसने देखा की उसके मोज़े में कुछ रखा हुआ है, पास जाकर उसने पाया की एक छोटा सा बटुआ उस मोज़े में रखा हुआ है| उसने वह बटुआ खोल कर देखा तो हैरान रह गई, उस बटुए में इतने पर्याप्त सोने के सिक्के थे की उसकी ज़िन्दगी बच जाती| उन सिक्कों की मदद से उसने अपना कर्जा चूका दिया और बिकने से बच गई| लेकिन वह सोना किसने रखा ये नहीं पता चल पाया|

एक बहन तो बिकने से बच गई लेकिन अब दूसरी बहन को बिकने से कौन बचाएगा| तीनों बहनों ने सोचा की फिर से हम अपना मोजा टांग कर रखेंगे और भगवान् हमारी रक्षा करेगा| एक रात पहले दसूरी बहन ने भी ऐसा ही किया और so गई, दुसरे दिन उसको भी सोने के सिक्के मिल गए और उसकी भी जान बच गई| उन लोगों को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था की यह सोने के सिक्के कौन रख कर जाता है, वो मान बैठी थी की भगवान हमारी मदद कर रहा है| लेकिन उनके पिता को शक था और उसने इस बात को जानने की कोशिश की, उनकी बेटियों की मदद कौन कर रहा है| उसने एक योजना बनाई, अगले पेज में जाने कौन था जो इन बहनों की मदद कर रहा था|

अगले पेज में जाने के लिए नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें|

 

 सांता क्लॉज़ को देखा: Who Is Santa Claus In Hindi

तीसरी बेटी ने भी बिलकुल ऐसा ही किया, अपने मोज़े टांग कर सो गई| लेकिन उनके पिता ने रात में जागने का फैसला किया और यह जानने की योजना बनाई की उनकी बेटियों की मदद आखिर कर कौन रहा है| रात में जब कुछ फेकने की ज़ोरों की आवाज़ आई तो पिता दौड़ कर सड़क पर गया और बोला “हमारी मदद करने के लिए धन्यवाद, तुम कौन हो”| तब उस महान आदमी ने पीछे मुड़ कर देखा और कहा “मुझे धन्यवाद् मत कहो, सब उसका है”|

वह महान आदमी और कोई नहीं बल्कि Nicholas था, वह अनाथ बच्चा जिसके माता पिता मर चुके थे और उसके लिए बहुत सारा पैसा छोड़ गए थे| Nicholas अब बड़ा हो चूका था और St. Nicholas के नाम से जाना जाता था|

संत बन कर Nicholas ने बहुत सालों तक ऐसे ही बिना किसी को बताए क्रिसमस के दिन लोगों की मदद करता रहा| लोगों को सचमुच क्रिसमस की रात को उपहार मिलते थे| और यह परंपरा प्रचलन में आ गई| आज भी लोग उन तीन बहनों की याद में रात में अपने मोज़े टांग कर सोते हैं और रात में चोरी-छुपे घर का कोई बड़ा सदस्य उसमे संतरे या कोई उपहार डाल देता है| और घर के बच्चो को लगता है की हमें सांता क्लॉज़ ने उपहार दिया है|

सांता क्लॉज़ याने के st. Nicholas हमें यह शिक्षा देते हैं की जरुरत से ज्यादा जो भी है उसे किसी ऐसे को दान कर दो जिसको उसकी जरुरत हो, और बदले में धन्यवाद भी न लो, हो सके तो चोरी-छुपे यह महान काम करो|

अगर यह कहानी अच्छी लगी हो तो LIKE, COMMENT और SHARE करना न भूलें|

Merry Christmas