धार्मिक कर्मकांड के समय क्यों बैठाया जाता है पत्नी को पति के वाम भाग की ओर एवं क्या है इसका महत्व

0
3965

पत्नी को वाम भाग की ओर बैठाने की धार्मिक परम्परा vedas-on-marriage

क्या आप जानते है पत्नी को अपने पति की वामांगी क्यों कहा जाता है और उसे हमेशा वाम भाग की ओर बैठने को क्यों बताया गया है | धर्म-साहित्य इसका अति महत्व बताया गया है |

lord-brhamha

पौराणिक आख्यानों के अनुसार ब्रम्हा जी के दाएं स्कंध से पुरुष और वाम स्कंध से स्त्री की उत्पत्ति हुई है | यही कारण है कि स्त्री को वामांगी कहा जाता है और विवाहोपरांत उसे (पत्नी को) पुरुष (पति) के वाम भाग (बाएँ) की ओर बैठाए जाने की परम्परा है | यद्धपि सप्तपदी होने पर वधु को दाई ओर बैठे जाने का विधान है, क्योकि तब तक वह पत्नी के रूप में पूरी तरह स्थापित नहीं हो चुकी होती | प्रतिज्ञाओं से बद्ध हो जाने के पश्चात जब स्त्री पति के रूप में पूरी तरह स्थापित हो चुकी होती है तब उसका स्थान पति के दाएं ओर से वाम भाग की ओर कर दी जाती है |

यहां पर एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात जो ध्यान देने योग्य है कि जब पुरुष प्रधान धार्मिक कार्य किये जाते है जैसे यज्ञ, नामकरण, जातकरण, अन्नप्राशन और निष्क्रमण संस्कार, विवाह और कन्यादान आदि संपन्न किये जाते है तो उस समय पत्नी को दक्षिण भाग (दाएं) की ओर बैठाया जाता है | इसके विपरीत स्त्री प्रधान कार्यों में पत्नी पति के वाम अंग (बाएं) की ओर बैठती है |

देवी भागवत को इसी तथ्य को एक श्लोक के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है –

स्वेच्छामयः स्वेच्छयायं द्विधारुपो बभूव ह |

स्त्री रूपो वामभागांशो दक्षिणांशः पुमान् स्मृतः ||

इसका अर्थ यह है कि स्वेच्छामय परमात्मा स्वेच्छा से दो रूपों में विभक्त हो गए | परमात्मा के वाम भाग (बाएं) ओर से स्त्री और दक्षिण (दाएं) भाग से पुरुष बने |

संस्कार गणपति में पत्नी को सदा ही वाम भाग में बैठने का निर्देश देते हुए कहा गया है कि –

वामे सिंदूरदाने च वामे चैव द्विरागमने |

वामे शय नैकश्यायां भवेज्जाया प्रियार्थिनी ||

अर्थात सिंदूरदान द्विरागमन , भोजन, शयन और सेवा के समय पत्नी को हमेशा पति के वाम भाग की ओर रहना चाहिए | इसके अतिरिक्त अभिषेक के अवसर पर, आशिर्वाद के समय और ब्राम्हण के पैर पखारते समय भी पत्नी को हमेशा पति के वाम भाग की ओर ही रहना चाहिए |     

हमारा यह पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद कृपया इसे अपने प्रियजनों के साथ शेयर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here