अगर इस रहस्य को जान लिया तो साढ़ेसाती, ढइया और दशा में नहीं पड़ेगी शनिदेव की कु-दृष्टि

0
2712

क्यों चढ़ाया जाता है शनि देव को तेल 

shani-devजैसा कि हम सब जानते है, शनि देव पर तेल चढ़ाने की परम्परा है | कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति शनि देव को तेल चढ़ाता है उस व्यक्ति से शनि देव सर्वदा प्रसन्न रहते है एवं उस पर कभी भी शनि देव अपनी कु-दृष्टि नहीं डालते है | यह तो हम सब जानते है कि शनि देव तेल चढाने से प्रसन्न होते है परन्तु यह बहुत कम लोग जानते है कि इसका कारण क्या है | इससे जुड़ी एक बहुत ही रोचक कहानी है जिसमे न केवल यह बताया गया है कि शनि देव को तेल क्यों चढ़ाया जाता है बल्कि उससे यह भी आपको पता चलेगा कि हनुमान जी के भक्तो पर शनि देव कभी अपनी कु-दृष्टि क्यों नहीं डालते |

anand-ramayanaआनंद रामायण में एक बहुत ही रोचक कथा का उल्लेख है जिसमे इन सभी तथ्यों का विवरण मिलता है | कथा में यह बताया गया है कि जब भगवान श्री राम ने लंका पर चढ़ाई करने के लिए समुद्र पर पुल बाँध लिया तो सब ने यह आशंका व्यक्त कि, कही लंका के राक्षस अवसर मिलते ही उस सेतु (पुल) को छति न पहुंचा दें | भगवान श्री राम ने विचार करने के उपरान्त रात्रि का अन्धकार होने से पहले हनुमान जी को उस सेतु की रक्षा करने का भार सौंप दिया | हनुमान जी अपने आराध्य की आज्ञा से उसी सेतु की रक्षा हेतु तैनात हो गए साथ-साथ श्री राम नाम में डूब गए |

hanuman-shani-dev-fightजहां हनुमान जी सेतु की रक्षा कर रहे थे, उसी स्थान पर शनि देव आ पहुंचे | शनि देव हनुमान जी के निकट आकर बोले “ऐ बानर में महाशक्तिशाली शनि देव हूँ | मेने तुम्हारी शक्ति के बहुत से किस्से सुने है, जिससे यह मालुम होता है कि तुमभी बहुत शक्तिशाली हो किन्तु में तुम्हे बिलकुल भी शक्तिशाली नहीं मानता |” हनुमान जी शनि देव के कथन सुनकर बोले कि “धन्यवाद शनि महाराज, संभवतः आप के कथन उचित ही है |” तभी शनि देव ने कहा की संभवतः नही निश्चित रूप से कह वानर और बोले अगर तुम सही में शक्तिशाली हो तो मेरे से युद्ध करो |” तब हनुमान जी बोले की मुझे क्षमा करें शनि महाराज और कृपया मुझे मेरा कार्य करने दें | हनुमान जी ने फिर धीरे से यह भी बोला की मै इस वक्त भगवान श्री राम का कार्य कर रहा हूँ कृपया इसमें विघ्न न डालें |

आगे की जानकारी पढ़ने के लिए नीचे नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here