जब आप किसी को 20 सेकेंड से जादा गले लगाते है, तब यह लव हाँर्मोन कुछ इस तरह करता है काम |

0
1440

hug-day-hd-wallpapers

आज हम आपको बताएँगे कि आपस में गले लगने से एक दुसरे पर विशवास कैसे बढ़ता है | जैसा कि हम सबने बहुत से लोगो को देखा है कि जब वे एक दूसरे से मुलाकात करते है तो आपस में गले लगते है और इससे दोनों की ख़ुशी और उत्साह बढ़ जाता है | जब कोई व्यक्ति किसी को 20 सेकेंड से अधिक गले लगाता है तो शारीर से औक्सिटोसीन नमक पदार्थ निकलता है जो एक दूसरे के प्रति विशवास को बढ़ाता है | कई लोगो का यह भी मन्ना है कि औक्सिटोसीन एक हार्मोन है परन्तु ऐसा नहीं है, यह तो केवल एक नयूरोट्रान्समीटर है जो की किसी का भरोसा जीतने में मददगार होता है | नयूरोट्रान्समीटर की विश्वास एवं नैतिकता में अहम भूमिका जानने के लिए कई शोधकर्ताओं ने सर्वेक्षण भी किये है |

oxytocin

इसके सर्वेक्षण से यह पाया गया है कि जब कोई व्यक्ति अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है या अपने चाहने वाले से जुड़कर प्रेम एवं विश्वास की अनुभूति महसूस करता है तब उसके शारीर से ये औक्सिटोसीन नामक पदार्थ निकलता है जिसके माध्यम से मस्तिष्क को यह पता चल जाता है कि सब कुछ सही है और  किसी भी प्रकार की चिंता का विषय नहीं है जिसके कारण व्यक्ति अपने आप को और भी सुरक्षित महसूस करता है और उसका भरोसा सामने वाले पे बढ़ जाता है |

शोधकर्ताओं के अनुसार शारीर में औक्सिटोसीन पदार्थ के बनने के कई कारण है जैसे कि जब माता अपने शिशु को दूध पिला रही हो, सम्भोग के अंतिम काल में, जब व्यक्ति अपने विपरीत लिंग के व्यक्ति से गले लगता हो, जब कोई अपने पार्टनर के साथ नृत्य कर रहा हो और अपने ईश्वर से प्रार्थना कर रहा हो |

pareja-amor

जैसा कि हम सब जानते है कि मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो की समाज में किसी न किसे से रिश्ता बना कर चलना चाहता है | कोई भी व्यक्ति अकेले नहीं रह सकता, हर किसी को किसी प्रकार के ख़ास रिश्ते या साथ की जरूरत होती है | बस औक्सिटोसीन यही काम करता है दो रिश्तों में मजबूती लाने का, विश्वास बढ़ाने का, क्षमा करने की भावना पैदा करना जिससे दो लोगों के बीच की बौडिंग मजबूत हो और रिश्ता अटूट रहे | अगर साधारण भाषा में बोला जाय तो यह कि जितना जादा औक्सिटोसीन की मात्रा शारीर के मस्तिष्क में बढ़ेगी उतना ही जादा दो लोगों के बीच विश्वास बढ़ेगा जिससे रिश्ता औरर भी मजबूत होगा |

images-1

हम सब यह भालीभाती जानते है कि विश्वास एक ऐसी चीज है कि उसे ख़रीदा नहीं जा सकता और न उसे अपनी ओर आकर्षित किया जा सकता है बल्कि यह तो सिर्फ जीता जा सकता है दूसरे के प्रति प्रेम और निस्वार्थ भाव से समर्पित हो कर | अगर आप किसी को 20 सेकेंड से जादा समय के लिए गले लगाते है तब आप उसका उतना भरोसा प्राप्त कर लेते है जितना की आप कोई आकर्षक वस्तु दे कर भी नहीं पा सकते और यह सिद्धांत शोधकर्ताओं ने बिना किसी शक या संकोच के अपने सर्वेक्षण में सिद्ध कर चुका है |

इस जानकारी को अपने चाहने वालों के साथ शेयर करें और उनको बताएं कि रिश्ते में विश्वास को कैसे बढ़ाया जा सकता है और कैसे रिश्ता जादा मजबूत किया जा सकता है, क्योकि हर प्रेम भरे रिश्ते की नीव तो विश्वास ही है |

 

Facebook Comments