चाय पीने के पहले इसमें उपस्थित इन तीन विषैले पदार्थों के बारे में जानलें |

0
1122

आज चाय हमारी दिनचर्या का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुकी है | आज अधिकांश लोगों का यह मानना है कि बिना चाय के वह नहीं रह सकते अर्तात उन्हें खाना भले ही न मिले परन्तु चाय समय पर अवश्य मिलनी चाहिए | चाय न केवल हम सब के जीवन की बल्कि हमारे देश की सभ्यता का एक महत्वपुर्ण अंग बन चुकी है, यह धारणाएँ भी है कि घर आय महमान का स्वागत बिना चाय के अधूरा सा लगता है | जो लोग चाय से इतना स्नेह रखते है और समझते है कि चाय एक लाभकारी और स्फूर्तिदायक पदार्थ है, तो वह बिलकुल गलत है क्यों कि चाय कई विषैले पदार्थों से युक्त है जो कि स्वास्थय के लिए बहुत हानिकारक है |

वैज्ञानिकों के द्वारा चाय में जो प्रमुख विष पाय जाते है वह बहुत ही उत्तेज्नादायी होते है जिसका मस्तिष्क एवं शारीर में बहुत ही बुरा असर पड़ता है | आज जो ह्रदय और रक्तवाहिनियों के रोगों के मामले सामने आ रहे है इसका प्रमुख कारण चाय ही है | अगर शोधकर्ताओं की माने तो चाय का नशा मनुष्य के शरीर को अन्दर ही अन्दर दीमक की भाँती चाट जाता है |

वैज्ञानिकों द्वारा चाय में जो विषैले पदार्थ पाय जाते है वह कुछ इस प्रकार है :-

1. थीन

harmfull effects-tea

जब व्यक्ति चाय पीता है तो उसके पश्चात उसे एक हलके से आनंद की अनुभूति होती है जिसका कारण कुछ और नहीं बल्कि चाय में पाय जाने वाला विषैला पदार्थ थीन ही है | इसका मस्तिष्क में बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है जो ज्ञान-तंतुओं को कमजोर कर देता है |

2. टेनिन  

harmful effects-tea

इस विषैले पदार्थ का दुश प्रभाव कुछ हद तक मदिरा से मिलता जुलता है क्यों कि जब व्यक्ति चाय पीता है तो उसे पह्ले टेनिन के असर से ताजगी महसूस होगी परन्तु कुछ ही देर के बाद जब इसका नशा उतर जाता है तो व्यक्ति को शारीर में थकावट सी महसूस होती है जिसके कारण उसके अन्दर और चाय पीने की इक्षा जाग्रत हो जाती है | यह विषैला पदार्थ शारीर में कब्ज को पैदा करता है और पाचन शक्ति को बिलकुल नष्ट कर देता है | यह पदार्थ के दुश प्रभाव के कारण लोग अनिद्रा जैसी बिमारी के भी शिकार हो जाते है | बहुत ही प्रसिद्ध डाक्टर जाँन हार्वे का कहना है कि जब चाय का सेवन अधिक मात्रा में किया जाता है तो इसमें मौजूद टेनिन एसिड के कारण पेट गड़बड़ रहने लगता है और यह तो हम सब जानते है कि बहुदा बिमारी का कारण पेट का सुचारो रूप से कार्य न करना ही होता है |

3. कैफीन

harmful effects-tea

शोधकर्ताओं की माने तो यह एक महाभयंकर विष है इसका प्रभाव तंबाकू या शराब में पाय जाने वाले विष निकोटीन के समान होता है | यह शारीर को निर्बलता देता है जिसके कारण शारीर खोकला हो जाता है | यह दिल की धड़कन को बढ़ाता है और कई बार अधिक मात्रा में सेवन के कारण एकदम से धड़कन रोक देता है तथा व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है | वैज्ञानिकों का मानना है कि इस विष के कारण मूत्र की मात्रा में लगभग तिन गुनी वृद्धि आ जाती है | जैसा कि हम जानते है कि मूत्र के द्वारा शारीर का दूषित मॉल बाहर निकल जाता है परन्तु चाय के इस विषैले पदार्थ के कारण वह बाहर नहीं निकलता बल्कि शारीर में ही राह जाता है जिसके दुश प्रभाव से गुर्दा, गठिया दर्द और ह्रदय सम्बंधित रोगों का शिकार होना पड़ता है | व्यक्ति जो चाय का वशीभूत हो कर उसका आदि हो जाता है उसका कारण सिर्फ और सिर्फ यह महाभयंकर विष कैफीन ही है |

जैसा की पाया गया है कि जादा चाय पीने वालों में जो मुख्या बिमारी पायी जाती है वह बाड़ी, पेट फूलना, पेट दर्द, कब्ज, ह्रदय के चलने में अनियमतता, बदहजमी और नींद का न आना आदि है | आज अधिकांश व्यक्ति चाय के नशे के वशिभूत है बिना यह जाने कि इसके क्या दुश परिणाम हो सकते है लेकिन चाय के विनाशकारी अवगुणों का अवलोकन कर इसे तुरंत छोड़ देना ही उचित है |

क्या यह जानकारी आपके अनुसार लाभदायक है, कृपया कोमेंट कर अपना सुझाव दें |

कृपया इसे शेयर करें और अपना सामाजिक दायित्व निभाएं |  

Facebook Comments